Home / State Sports / कोरोना काल में बिहार के क्रिकेटरों की दुर्दशा, आदित्य वर्मा ने सीएम नीतीश से लगाई गुहार 

कोरोना काल में बिहार के क्रिकेटरों की दुर्दशा, आदित्य वर्मा ने सीएम नीतीश से लगाई गुहार 

बिहार क्रिकेट में राजनीति पूरी तरह हावी हो चुकी है. इन हालात में बिहार में क्रिकेट के हालात सही करने और को पटरी पर लाने और बिहार के क्रिकेटरों की कोरोना महामारी के दौरान दुर्दशा को देखते हुए क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बिहार (सीएबी) के सचिव  आदित्य वर्मा ने फिर पहल की है. उन्होंने इस बारे में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को शनिवार को पत्र भी लिखा.

चुनाव से ठीक पहले लिखे पत्र में उन्होंने लिखा-बिहार में अभी चुनाव का महौल है लेकिन परिस्थिति ऐसी बन गयी है कि अपने राज्य के मुख्यमंत्री को बता देना अति आवश्यक है. उन्होंनेबीसीसीआई से मिले करोड़ो रुपये का दुरुपयोग करने वाले बिहार क्रिकेट संघ के खिलाफ जांच कर कारवाई की मॉग की है.

उन्होंने अपने पत्र में नीतीश कुमार से कहा कि कोरोना जैसे महामारी के कारण बिहार के परिवारो पर भी आर्थिक संकट आया है. मैं इन्ही परिवार के बच्चों की ओर ध्यान दिलाते हुए विनती कर रहा हूँ.  बीसीसीआई द्वारा प्रायोजित विभिन्न प्रकार की जूनियर, सीनियर पुरुष व  महिला क्रिकेट प्रतियोगिता मे बिहार टीम से खेल चुके खिलाडिय़ों का टीए, डीए, मैच फीस का भुगतान बिहार क्रिकेट संघ के पदाधिकारीयों ने अभी तक नहीं किया है.

हालांकि बीसीसीआई ने लगभग 10.80 करोड़ रुपये की राशि बिहार क्रिकेट संघ के खाता बैंक ऑफ इंडिया के सचिवालय शाखा में पिछले साल बिहार क्रिकेट के विकास एवं राज्य क्रिकेट टीम व खेल चुके खिलाड़ियों के लिए दी थी.उन्होंने पत्र में लिखा-खिलाडिय़ों को अच्छी खासी परेशानी हो ही है और बिहार क्रिकेट संघ ने एक भी पैसा बिहार के क्रिकेटरों को नहीं दिया है.

उन्होंने कहा-इस आपदा काल में  बिहार के पुरुष एवं महिला क्रिकेटरों को भुगतान नही होना काफी शर्मनाक है.  उन्होंने सीएम से एक्शन लेने का  आग्रह करते हुए मोईनुल हक स्टेडियम का भी मुद्दा उठाया है.

उन्होंने पत्र में लिखा-पटना के मोईनुल हक स्टेडियम के परिसर मे स्थित कदम कुआं थाना के सामने वाली जमीन  पर एक खिलाड़ी  कब्जा कर अपनी क्रिकेट अकादमी चला कर हर महीने लाखों की कमाई कर रहा है.  उन्होंने पत्र में लिखा  कि कुछ माह पूर्व भी खेल मंत्री, प्रधान सचिव खेल, स्टेडियम प्रबंधक तथा बिहार राज्य खेल प्राधिकरण के प्रमुख को पत्र लिखा लेकिन अब तक इसपर कोई एक्शन नहीं हुआ है.

About Aditya Srivastava

Check Also

लखनऊ के द्रोणाचार्य अवार्डी गौरव खन्ना को भी मिलेगी 20 हजार प्रति माह की मदद 

लखनऊ। खेल का मतलब ही चुनौती है, इसलिए एक खिलाड़ी को हमेशा इसके लिए तैयार ...