Home / State Sports / स्टेडियम में अभ्यास की अनुमति लेकिन पहले दिन गिने-चुने खिलाड़ी ही दिखे

स्टेडियम में अभ्यास की अनुमति लेकिन पहले दिन गिने-चुने खिलाड़ी ही दिखे

कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए पूरे देश में लाकडाउन लगाया था लेकिन सरकार द्वारा अनलाक की प्रक्रिया में ढील देते हुए लगातार अनुमति दी जा रही है। हाल ही में अनलाक की प्रक्रिया में धार्मिक, समाजिक, आकस्मिक, खेल, मनोरंजन, सांस्कृतिक एवं राजनीतिक कार्यक्रमों एवं अन्य सामूहिक गतिविधियों को अधिकतम 100 व्यक्ति के साथ शुरू करने की अनुमति मिली थी।

इसी क्रम में अब प्रदेश के स्टेडियमों को प्रैक्टिस के लिए खोलने की अनुमति भी मिल गयी है; इसी बारे में आज लखनऊ के स्टेडियमों सहित प्रदेश में भी प्रैक्टिस की शुरूआत हो गई है। हालांकि कोचिंग का जिम्मा खेल विभाग के स्थायी प्रशिक्षकों के जिम्मे होगा।

अभ्यास की गाइडलाइंस-10 साल से कम उम्र के खिलाड़ियों का प्रवेश प्रतिबंधित

हालांकि इसे कोरोना का खौफ ही कहा जाएगा कि पहले दिन आज राजधानी के स्टेडियमों में इक्का-दुक्का ही खिलाड़ी दिखे, इसमें भी ज्यादातर फिटनेस एक्सरसाइज करते दिखे तो कुछ खिलाड़ी अपने साथियों के साथ प्रैक्टिस करते दिखे। इस बारे में अधिकारियों की माने तो जानकारी के अभाव में कई खिलाड़ी अभी स्टेडियम नहीं आये है। फिलहाल प्रैक्टिस का समय प्रातः 6.00 बजे से 8.30 बजे तक एवं शाम को 3.00 से 6.00 बजे तक होगा।

फिलहाल खेल विभाग ने अभ्यास की गाइडलाइंस बनाई गई है जिसके अनुसार कोरोना संक्रमण की रोकथाम को देखते हुए 10 साल से कम आयु के खिलाड़ियों का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा जबकि अभ्यास के लिए आने वाले खिलाड़ियों को मास्क व दस्ताने पहनने होंगे तथा सेनिटाईजर भी लेकर आना होगा। इस बारे में खेल निदेशालय द्वारा जारी निर्देश के अनुसार विभागीय प्रशिक्षक (क्रीड़ाधिकारी, उप क्रीड़ाधिकारी, सहायक प्रशिक्षक) अपने खेल से सम्बन्धित स्थानीय प्रशिक्षण शिविरों का संचालन एक अक्टूबर से करेंगे।

खिलाड़ियों को पहनने होंगे मास्क व दस्ताने, सेनिटाइजर भी लाना होगा

इसके चलते लखनऊ के केडीसिंह बाबू स्टेडियम में एथलेटिक्स, वॉलीबाल, हाकी, बास्केटबाल, बैडमिंटन एवं भारोत्तोलन के साथ आधुनिक जिम, चौक स्टेडियम में फुटबाल, मिनी स्टेडियम विजयंतखण्ड गोमतीनगर में ताइक्वांडो एवं मिनी स्टेडियम विनयखण्ड गोमतीनगर में टेनिस का प्रशिक्षण मिलेगा। वहीं प्रशिक्षण के दौरान फेस मास्क का पहनना, सोशल डिस्टेसिंग का पालन तथा थर्मल स्कैनिंग एवं हाथ धोने की व्यवस्था करना अनिवार्य होगा।

जानकारी के अनुसार खेल विभाग के पास 150 स्थायी कोच है जिसके चलते अभी कुछ ही खेलों की अनुमति रहेगी। इसके साथ 450 एडहॉक कोचों की नियुक्ति के बाद ही खेल अभ्यास गतिविधियां पूरी तरह शुरू हो पाएंगी। हालांकि नए सरकारी आदेश के चलते प्रदेश में अब एडहॉक कोचों की नियुक्ति आउटसोर्सिंग के द्वारा होगी।

About Aditya Srivastava

Check Also

लखनऊ के द्रोणाचार्य अवार्डी गौरव खन्ना को भी मिलेगी 20 हजार प्रति माह की मदद 

लखनऊ। खेल का मतलब ही चुनौती है, इसलिए एक खिलाड़ी को हमेशा इसके लिए तैयार ...