Latest News
Home / State Sports / अंशकालिक खेल प्रशिक्षकों ने आउटसोर्सिंग से नियुक्ति का किया विरोध

अंशकालिक खेल प्रशिक्षकों ने आउटसोर्सिंग से नियुक्ति का किया विरोध

कोरोना काल में खेलों की दुनिया ठप्प पड़ी है। इसके चलते टूर्नामेंट के आयोजन के साथ स्टेडियम में कोचिंग भी बंद है। इसका सबसे ज्यादा शिकार हुए है प्रदेश के स्टेडियम में संविदा पर प्रशिक्षण दे रहे अंशकालिक खेल प्रशिक्षक जिनके अनुबंध का नवीनीकरण लगभग पिछले छह माह से नहीं हो सका है। इसके चलते इनके सामने जीवन यापन का संकट खड़ा हो गया है।

इस हाल से आजिज आकर ये लोग लगातार मांग कर रहे है। अपने अनुबंध में नवीनीकरण की मांग को लेकर इन खेल प्रशिक्षकों ने आज दोपहर खेल निदेशालय के भवन के बाहर पर प्रदर्शन भी किया। हालांकि धारा 144 लगे होने के कारण मौके पर पहुंची पुलिस ने इन्हें अरेस्ट कर लिया और बस में भरकर ले गए और कुछ देर बाद छोड़ भी दिया ।

आज डिप्लोमा धारक खेल प्रशिक्षक एसोसिएशन उत्तर प्रदेश के तत्वावधान में  लगभग 20-25 प्रशिक्षकों ने प्रदर्शन किया। इन प्रशिक्षकों ने अनुबंधन का नवीनीकरण न होने के चलते वेतन न मिलने के चलते हमें पटरी पर दुकान लगाकर अपने परिवार का पालन पोषण करना पड़ रहा है। इन प्रशिक्षकों ने खेल विभाग में आउटसोर्सिंग पर कोच की भर्ती किए जाने का भी विरोध किया।

एसोसिएशन के सचिव विकास यादव ने कहा कि पिछले छह माह से अनुबंध का नवीनीकरण न होने से प्रदेश के 450 खेल प्रशिक्षक भुखमरी का शिकार है। हमने  कई बार अपील की लेकिन सुनवाई नहीं हुई। इससे पहले इन्होंने अगस्त माह में ठेला लगाने के साथ जूता-पालिश करके प्रदर्शन करते हुए अपना विरोध जताया था।

About Aditya Srivastava

Check Also

वाराणसी मेें हुई बैठक, उत्तर प्रदेश फुटबॉल संघ के अध्यक्ष ने किया ख़ारिज 

लखनऊ: उत्तर प्रदेश फुटबॉल संघ के अध्यक्ष डा.संजय सिंह ने वाराणसी में हुई संघ की ...