Latest News
Home / National Sports / IPL : पांच माह बाद नेट पर उतरे कोहली, दस साल बाद खेलेंगे दर्शकों के बिना

IPL : पांच माह बाद नेट पर उतरे कोहली, दस साल बाद खेलेंगे दर्शकों के बिना

कोरोना काल में इस बार इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का आयोजन 19 सितंबर से 10 नवंबर तक यूएई में होगा। वहीं लीग के लिए यूएई पहुंची टीमों में चेन्नई सुपर किंग्स को छोड़कर अन्य टीमों के खिलाड़ियों ने क्वारंटाइन पूरा होने के बाद मैदान पर प्रैक्टिस भी शुरू कर दी।

इस में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (आरसीबी) के कप्तान विराट कोहलीे भी अभ्यास करने पहुंचे जिन्होंने क्रिकेट पर लगे ब्रेक के चलते लगभग पांच माह बाद नेट पर बल्लेबाजी की। विराट ने इस बारे में कहा कि बताया कि इतने समय बाद नेट पर उतरने के चलते वह नर्वस भी थे लेकिन अब जाकर चीजें नार्मल हुई है।

इसी क्रम में भारतीय क्रिकेट टीम के भी कप्तान विराट कोहली ने लॉकडाउन, मैदान पर वापसी, पत्नी अनुष्का शर्मा के साथ बिताया समय सहित कई मुद्दों पर आरसीबी के साथ एक इंटरव्यू में चर्चा की।

गेम उतना मिस नहीं किया जितना सोचा था

विराट कोहली के अनुसार मैंने गेम उतना मिस नहीं किया जितना सोचा था। यह मेरे लिए अलग अनुभव था। । मैं दूसरी चीजें करते हुए इसे भी जीवन का हिस्सा समझ रहा था। उन्होंने कहा कि मेरे लिए ये एकमात्र बे्रक थ्रा जो मुझे मिला था। शायद इसी के चलते मैं 9-10 साल पीछे हो गया था।

पहली बार अनुष्का के साथ बिताया इतना समय

उन्होंने इसके साथ घर में पत्नी के साथ बिताए लम्हों को सर्वश्रेष्ठ समय कहा। अपने प्यार केसाथ सिर्फ घर पर रहना तो मेरी निगाह मे इससे बेहतर कुछ हो ही नहीं सकता। हमने बहुत ज्यादा सोचने बिना अपने शौक पूरे किए। हालांकि शुरुआत में दिकत हुई लेकिन बाद में सब ठीक हो गया।  वैसे भी जबसे हम एक-दूसरे के करीब है, तब से इतना समय कभी साथ नहीं बिता सके। वहीं जनवरी 2021 में पिता बनने वाले विराट ने इसे अविश्वसनीय फीलिंग बताते हुए कहा कि मुझे कैसा महसूस हो रहा है, यह कहना मुश्किल है।

बिना भीड़ के खेलना काफी मुश्किल

उन्होंने बिना भीड़ के खेलने को मुश्किल करार दिया। कोहली के अनुसार यह अजीब और नया अनुभव होगा। मैंने 10 साल से जितने भी गेम खेले सभी में भीड़ थी। यह कहने की जगह याद रखना जरूरी है। गेंद और बल्ले की टक्कर की गूंज मुझे आखिरी बार 2010 में रणजी ट्रॉफी मैच में हुई थी। अब दस साल बाद फिर ऐसो होगा और मैं खेल भी नहीं सकूंगा क्योंकि भीड़ नहीं है।

दायरे में सेलिब्रेशन, कहा-नियम मानने से ही हो पाएगी लीग

उन्होंने कहा कि इंग्लैंड में हुई सीरीज में बायो बबल का सम्मान हुआ। फिर भी सेलिब्रेट हो रहा है। अब इसके लिए दो अलग-अलग बबल हैं। हालांकि विकेट लेने पर चार या पांच लोग का आपके पास आना, पीठ थपथपाना या हाई फाइव करना जैसी बातें थोड़ी कम हो गई। हालंकि उनहें उन्हें मुट्ठी टकराते देखा है।

वैसे संतुलन भी होना चाहिए क्योंकि हम निडर नहीं हो सकते। विराट कोहली के अनुसार टूर्नामेंट का और अपने आसपास का ध्यान रखने और बायो बबल के नियम मानने से ही लीग हो पाएगी। हम यहां क्रिकेट खेलने आए है। मजे करने या दुबई घूमने नहीं आए हैं।

About Aditya Srivastava

Check Also

साइकिलिंग करते सचिन ने ऐसे दिए क्रिकेट के टिप्स 

क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले दिग्गज क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर सोशल पर सक्रिय रहते है. ...