Home / International Sports / IPL-2020 : यूएई में भी निकला फिक्सिंग का जिन्न, प्लेयर्स की सोशल मीडिया पर निगरानी

IPL-2020 : यूएई में भी निकला फिक्सिंग का जिन्न, प्लेयर्स की सोशल मीडिया पर निगरानी

कोरोना काल में शुरू हुई इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) ने अब खासी रफ्तार पकड़ ली है और अब तक कई रोमांचक मैच हुए है। इसके साथ ही इस लीग पर अब फिक्सिंग का साया भी छाने लगा है। वैसे पहले स्पॉट फिक्सिंग के मामले को लेकर बदनामी का लंबा दंश झेल चुकी बीसीसीआई पिछले काफी समय से सतर्क चल रही है।

बीसीसीआई की एंटी करप्शन यूनिट (एसीयू) भी पूरी सतर्कता के साथ मामले पर कड़ी नजर बनाए हुए है क्योंकि ये खबर आ रही है कि सट्टेबाज भी सक्रिय है और उन्होंने में भी अपनी पहुंच बना ली है लेकिन अभी तक कुछ करने में सफल नहीं हो सके। इस बारे में एसीयू चीफ अजीत सिंह ने कहा कि सट्टेबाज पहुंच तो गए लेकिन सफल नहीं हो सके है।

वैसे बीसीसीआई सट्टेबाजी के दाग को दूर रखने के लिए सतर्क है तो एसीयू भी कड़ी मानीटरिंग कर रहा है और उसकी कोशिश है कि फिर से सट्टेबाजी का दाग न लग जाए। यूएई में हो रहे इस टूर्नामेंट में सट्टेबाजी रोकने की कवायद में एसीयू की तीन टीमें यूएई में तैनात है।

एसीयू चीफ अजीत सिंह ने एक न्यूज एजेंसी को दी गई जानकारी में कहा कि कुछ सटोरिये दुबई आए है लेकिन अभी सब कुछ सही है और ये सटोरिए कई कोशिशों के बावजूद कोई हरकत नहीं कर सके है। हमारी टीमें तीन टीमें तीनों वेन्यू-दुबई, शारजाह व अबू धाबी में तैनात है और हम स्थानीय पुलिस और अमीरात क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) के लगातार संपर्क में हैं। हमें उनसे पूरा सहयोग मिल रहा है।

हम टीम में शामिल खिलाड़ियों की सोशल मीडिया एक्टिविटीज पर भी पूरी निगरानी कर रहे है क्योंकि ये अंदेशा है कि सट्टेबाज सोशल मीडिया प्लेटफार्म के द्वारा भी खिलाड़ियों से संपर्क कर सकते हैं। ये अंदेशा इसलिए भी ज्यादा है कि बायो सिक्योर बबल में रहने के चलते कोई खिलाड़ी किसी बाहरी आदमी से निजी मुलाकात नहीं कर सकता है।

उन्होंने साथ में ये भी कहा कि मैच फिक्सिंग पर रोक लगाने के लिए इसके खिलाफ कड़े कानून बनाने की दरकार है तभी इस अपराध पर पर लगाम लग सकती है। वैसे अभी पुलिस वर्तमान कानूनों के दायरे में फिक्सिंग के खिलाफ कार्रवाई करती है।

अजीत सिंह ने ये भी जानकारी दी कि भारत में भी अलग-अलग शहरों से पुलिस बलों द्वारा सट्टेबाजों के खिलाफ लगातार एक्शन लिए जाने की जानकारी मिल रही है और गुरुग्राम पुलिस ने हाल में कुछ सटोरिए अरेस्ट किए है। बताते चे कि आईपीएल पर पहले भी फिक्सिंग का दाग लग चुका है और सट्टेबाज इस लीग में घुसपैठ की लगातार कोशिश करते रहते है और सट्टेबाज फिक्सिंग का सहारा लेकर गैर कानूनी कमाई के लिए लगातार काम करते रहते है।

About Aditya Srivastava

Check Also

 जोकोविच, फेडरर, नडाल और तियाफोई को एटीपी पुरस्कार-2020

एटीपी के शीर्ष पुरस्कार पर इस साल नोवाक जोकोविच, रोजर फेडरर, राफेल नडाल और फ्रांसिस ...