Home / National Sports / गौरव खन्ना : फोर्स से पैरा बैडमिंटन हेड कोच तक, द्रोणाचार्य अवार्ड से होंगे सम्मानित

गौरव खन्ना : फोर्स से पैरा बैडमिंटन हेड कोच तक, द्रोणाचार्य अवार्ड से होंगे सम्मानित

इंडियन  पैरा बैडमिंटन खिलाड़ियों को निखारकर उन्हें इंटरनेशनल पदक विजेता बनाने वाले देश के विख्यात भारतीय पैरा बैडमिंटन हेड कोच गौरव खन्ना 29 अगस्त को भारत के राष्ट्रपति द्वारा देश के सर्वोच्च प्रशिक्षक सम्मान द्रोणाचार्य सम्मान से सम्मानित होंगे. अगर वो सम्मानित किये गए तो ये सम्मान पाने वाले वो पहले पैरा बैडमिंटन कोच होंगे.

गौरव खन्ना की ट्रेनिंग से राष्ट्रीय पैरा बैडमिंटन खिलाडिय़ों ने पिछले 5 वर्षो में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शानदार प्रदर्शन करते हुए 314 पदक ( 96 स्वर्ण, 94 रजत व 126 कांस्य) जीत कर देश का गौरव बढ़ाया है. पिछले कई वर्षों में भारतीय पैरा खिलाडिय़ों ने सामन्य खिलाडिय़ों से अधिक पदक भारत के लिए जीते है.

राष्ट्रीय पैरा बैडमिंटन खिलाडिय़ों ने पिछले 5 वर्षो में जीते 314 अंतरराष्ट्रीय  पदक

गौरव खन्ना के प्रशिक्षण में ही प्रमोद भगत व मनोज सरकार जैसे अर्जुन अवॉर्डी खिलाडिय़ों ने विश्व कि सर्वश्रेष्ठ रैंक हासिल की और पूर्व अर्जुन अवॉर्डी रोहित बाकर डेफ बैडमिंटन व पारुल परमार भी इनके प्रशिक्षण में खेल की बारीकिया सीखी.

गौरव खन्ना पिछले 20 वर्षों से बैडमिंटन खेल में लगातार एक जीनियस अम्पायर, रेफरी, मैच कंट्रोल, लाइव स्कोरर से अब एक जीनियस बैडमिंटन कोच के रूप में राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देश व प्रदेश का प्रतिनिधित्व करते रहे है.

वर्ष 1998 में रेलवे में उप निरीक्षक कमांडो कैडेड पद में कैरियर की शुरुवात करने वाले गौरव खन्ना के जीवन में तब मुश्किल में पड़ गया जब वर्ष 2000 में एक मार्ग दुर्घटना में वो आंशिक दिव्यांग हो गये जिससे प्रोफेशनल खिलाड़ी से प्रोफेशनल कोच और तकनीकी अधिकारी के रूप में अपने आप को स्थापित किया। पूर्व में गौरव खन्ना भारतीय बधिर टीम के राष्ट्रीय हेड कोच भी रह चुके है.

 96 स्वर्ण, 94 रजत व 126 कांस्य

इनके प्रशिक्षण में भारतीय टीम ने अंतरराष्ट्रीय बधिर प्रतियोगिताओं, डेफलम्पिक और बधिर विश्व चैम्पियनशिप में भारत का प्रतिनिधित्व किया और बधिर के लिये स्पोर्टस साकेतिक भाषा को भी विकसित किया. इनके कोचिंग स्तर को देखते हुए वर्ष 2011 में एशिया युरोप महाद्वीपीय बधिर चैम्पियनशिप में एशियन टीम का कोच नियुक्त किया गया.

वर्ष 2014 में भारतीय पैरालम्पिक कमेटी ने भरतीय पैरा बैडमिंटन टीम का  हेड कोच नियुक्त किया जिनके प्रशिक्षण में भारतीय पैरा बैडमिंटन टीम ने नई ऊंचाइयों को छुआ है.  इनकी ट्रेनिंग में आईएएस अधिकारी सुहास एल वाई, अबू हुबैदा, राहुल कुमार ने देश के लिये कई पदक जीते है.

 

पूर्व में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा इनकी उपलब्धियों के लिये प्रदेश के सर्वोच्च सम्मान यश भारती से सम्मानित किया जा चुका है. गौरव खन्ना को इससे पहले यश भारती पुरुस्कार 2016, गुरु गोविन्द सिंह पुरुस्कार 2017, दिव्यांग व्यक्ति के लिए किये गए कार्यो के लिए 3 दिसम्बर 2019 वर्ल्ड दिव्यांग दिवस पर सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति के लिए उत्तर प्रदेश सरकार सम्मानित कर चुकी है.

 

About Aditya Srivastava

Check Also

वीडियो : सानिया ने बेटे से कुछ ऐसा पूछा कि जवाब सुनकर…

भारत की स्टार टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा इन दिनों टेनिस से दूर है। ऐसे में ...

Leave a Reply

Your email address will not be published.