Home / State Sports / लखनऊ के द्रोणाचार्य अवार्डी गौरव खन्ना को भी मिलेगी 20 हजार प्रति माह की मदद 

लखनऊ के द्रोणाचार्य अवार्डी गौरव खन्ना को भी मिलेगी 20 हजार प्रति माह की मदद 

लखनऊ। खेल का मतलब ही चुनौती है, इसलिए एक खिलाड़ी को हमेशा इसके लिए तैयार रहना चाहिए। मेरे जीवन में कई बार उतार-चढ़ाव आये मगर मैं अपने लक्ष्य से कभी भटका नहीं। यह बात गुरुवार को पैरा बैडमिंटन कोच व द्रोणाचार्य अवार्डी गौरव खन्ना ने उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से संचालित योजना के तहत प्रति माह 20000 सहायता राशि की मंजूरी के बाद कही।

द्रोणाचार्य अवार्ड से सम्मानित भारतीय पैरा बैडमिंटन टीम के कोच गौरव खन्ना सहित 6 लोग है। उनके अलावा अर्जुन अवार्ड से सम्मानित बास्केटबॉल खिलाड़ी वाराणसी के विशेष भृगुवंशी, महिला क्रिकेटी आगरा की दीप्ति शर्मा, निशानेबाज मेरठ के सौरभ चौधरी, पैरा एथलेटिक्स खिलाड़ी बागपत के अंकुर धामा और महिला पहलवान मुजफ्पफरनगर की दिव्या काकरान को भी इसकी मंजूरी मिली।

इस अवसर पर गौरव  गौरव खन्ना   ने बताया कि जब मुझे भारतीय पैरा बैडमिंटन टीम का मुख्य कोच बनाया गया तो मेरे सामने कई चुनौतियां थी, पर संयम व जी-तोड़ मेहनत की बदौलत सबकुछ आसान हो गया और भारतीय खिलाडिय़ों ने दुनिया भर में अपने खेल का लोहा मनवाया। बातचीत में उन्होंने कहा, जिस दिन मुझे से मुझे द्रोणाचार्य मिला है उस दिन से देश और पैरा खिलाडिय़ों के प्रति मेरी जिम्मेदारी और बढ़ गई।

रायबरेली रोड पर स्थित एक निजी स्कूल में देश की पहली पैरा बैडमिंटन अकादमी खुलने पर गौरव ने खुशी जताते हुए कहा, यह लखनऊ सहित पूरे प्रदेश के लिए बड़ी उपलब्धि है। वह बताते हैं कि अभी तक उत्तर प्रदेश तो छोडिय़े देशभर में पैरा बैडमिंटन की कोई अकादमी नहीं है। यहां खुलने वाली अकादमी से लखनऊ के साथ राज्यभर के खिलाडिय़ों को प्रशिक्षण हासिल करने में मदद मिलेगी।

इस अकादमी में चार कोर्ट बने है। साथ ही अंतरराष्ट्रीय स्तर की सभी सुविधाएं भी मिलेगी। अब लखनऊ में पैरा के राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के टूर्नामेंट हो सकेंगे। द्रोणाचार्य अवार्डी गौरव खन्ना के मुताबिक शहर में इस अकादमी के खुलने में पैरा बैडमिंटन एसोसिएशन का भी सहयोग है।

उन्होंने कहा कि प्रतिभाशाली खिलाडिय़ों की तलाश के लिए इसी माह दूसरे सप्ताह से टैलेंट सर्च के नाम से ट्रायल कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा। इसका आयोजन शहर के केडी सिंह बाबू स्टेडियम में होगा।  खेल निदेशक डा.आरपी सिंह ने बताया कि खेल विभाग द्वारा प्रदेश के प्रसिद्ध खिलाड़ियों के लिए वित्तीय सहायता की स्कीम चलाई जाती  है।

इसमें स्टेट लेवल के खिलाड़ियों को 4000 रूपए, नेशनल लेवल के खिलाड़ियों को 6000, इंटरनेशनल लेवल के खिलाड़ियों को 10000 रूपए और अर्जुन अवार्ड, द्रोणाचार्य अवार्ड, खेल रत्न, पद्मश्री, पद्मभूषण व ध्यानचंद अवार्ड से सम्मानित खिलाड़ियों को 20 हजार रूपए प्रतिमाह की वित्तीय सहायता दी जाती है।

About Aditya Srivastava

Check Also

चतुर्थ शैल बाला शतरंज : तनिष्क गुप्ता विजेता, पृथ्वी को दूसरा पायदान

  लखनऊ। स्थानीय प्रिसीजन चेस अकादमी में खेली जा रही चतुर्थ शैल बाला स्मारक ओपन ...