Home / National Sports / कोरोना ने तोड़ दी इस शूटर की कमर, बेचनी पड़ी पिस्टल

कोरोना ने तोड़ दी इस शूटर की कमर, बेचनी पड़ी पिस्टल

कोरोना की मार हर क्षेत्र में पड़ी है। आलम तो यह है कि कोरोना और लॉकडाउन की वजह से लोगों की जिदंगी खतरे में पड़ गई है। कोरोना खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है और लगातार इसका कहर लोगों पर टूट रहा है।

कोरोना की वजह से कई लोगों की आर्थिक स्थिति इतनी कमजोर हो गई है उन्हें अपने वजूद के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। कोरोना की वजह से लोग सडक़ पर आ गए है और उनके पास अब खाने को पैसा तक नहीं बचा है। बात अगर खिलाडिय़ों की जाये तो उनके जीवन पर कोरोना की मार पड़ती साफ दिख रही है।

अंशकालिक खेल प्रशिक्षकों पर भी कोरोना की मार देखने को मिल रही है। आलम तो यह है कि वो भूखे मरने के कगार पर पहुंच गए है। इसको लेकर अभी हाल में उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में खेल निदेशालय के सामने करीब 22-23 अंशकालिक खेल प्रशिक्षकों ने जूता पॉलिश करने के साथ ही खेल निदेशालय के बाहर ठेला लगाकर अपना गुस्सा निकाला था।

अंशकालिक खेल प्रशिक्षकों का कहना था कि उनका करारा नहीं आगे बढऩे से उनके सामने रोजी रोटी का खतरा मंडरा है। अब इसी तरह का मामला बरेली में देखने को मिला है।

जानकारी के मुताबिक यहां पर एक राष्ट्रीय स्तर  के शूटर है जो अब कोचिंग देते हैं लेकिन कोरोना की वजह से खेलों की दुनिया में सन्नाटा पसरा हुआ है। इस वजह से उनके पास अब पैसे नहीं है। इस शूटर का नाम देवव्रत बताया जा रहा है। एक अखबार में छपी खबर के अनुसार देवव्रत एक निजी शूटिंग में खिलाडिय़ों को कोचिंग देते हैं लेकिन कोरोना काल में वो बंद पड़ी है।

इस वजह से उनकी आर्थिक स्थिति कमजोर हो गई है। उनके पास मकान का किराया चुकाने के लिए भी पैसा नहीं है। इस वजह से देवव्रत अपनी पिस्टल को बेचना पड़ा है। देवव्रत एक अच्छे शूटर माने जाते हैं। उन्होंने 2001 से 2015 तक डिस्ट्रिक्ट और इंटर डिस्ट्रिक्ट शूटिंग में पदक जीते हैं लेकिन उनके लिए इस समय जिंदगी का सबसे कठिन दौर है, क्योंकि उन्हें अपनी पिस्टल बेचनी पड़ी है। कुल मिलाकर देखा जाये तो कोरोना ने आम आदमी की कमर तोड़ के रख दी है।

About Sports Zone Desk

Check Also

आईपीएल-2022 में देखने को मिलेंगी दस टीम

हाल ही में यूएई में आईपीएल का सफल आयोजन हुआ था. आईपीएल 2020 का फाइनल ...