Latest News
Home / State Sports / Baliya : सरकार अगर दे ध्यान तो बन सकता है वाटर स्पोर्ट्स का बड़ा सेंटर

Baliya : सरकार अगर दे ध्यान तो बन सकता है वाटर स्पोर्ट्स का बड़ा सेंटर

बलिया। यूपी-बिहार बार्डर पर एक जिला है बलिया, जहाँ अंग्रेजों के खिलाफ बगावत की शुरुआत हुई थी। इस शहर का खेलों की दुनिया में एक नाम है भले ही यहां खेल के लिए उतनी सुविधाए नहीं है। इसके साथ ही ये भी बात सामने आयी कि अगर सरकार यहां ध्यान दे तो देश का काफी बेहतरीन वाटर स्पोर्ट्स सेंटर बलिया में बन सकता है।

शहर में हुई हिंदी की पहली मासिक खेल पत्रिका स्पोर्ट्स जोन की लांचिंग

इस शहर के प्रबुद्घ जनों की माने तो अगर सुविधाएं मिले तो यहां के प्लेयर काफी बड़े स्तर पर नाम रोशन कर सकते हैं। यहां जब हिंदी की पहली मासिक खेल पत्रिका स्पोर्ट्स जोन की लांचिग हुई तो खिलाड़ियों ने उम्मीद जताई कि अब इस पत्रिका के सहारे हमारे जिले में खेल सुविधाओं की मांग पूरी होगी।

जिले में खेल सुविधाओं की हालत दयनीय, प्रतिभाओं को नहीं मिलता मुकाम

इंजीनियर अरुण सिंह

यहां अग्रवाल धर्मशाला में सोशल डिस्टेसिंग के साथ बलिया जिला ओलंपिक संघ के तत्वावधान में हुए इस समारोह में मुख्य अतिथि इंजीनियर अरुण सिंह (बलिया जिला ओलंपिक संघ) ने अपनी शुभकामनाएं देते हुए कहा कि बलिया में फुटबॉल सहित कई खेलों का क्रेज है लेकिन यहां खेल की बारीक तकनीक की जानकारी नहीं मिलती है।

यदि इस दिशा में काम किया जाए तो प्रतिभावान खिलाड़ियों को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि जिले के बच्चों में काफी प्रतिभाए है। इनको उचित प्लेटफार्म की दरकार है। उन्होंने कहा कि हिंदी की पहली मासिक खेल पत्रिका की शुरुआत के लिए आइकोनिक ओलंपिक गेम्स अकादमी को बधाई। इससे खिलाड़ियों को नवीनतम जानकारी मिलने के साथ अपनी बातों को कहने के लिए एक मंच भी मिलेगा।

विशिष्ट अतिथि अजय सिंह (अध्यक्ष जिला बास्केटबॉल संघ) ने कहा कि स्कूलों में पढ़ाई के बोझ के चलते खेल पिछड़ जाता है। इसमें बदलाव की दरकार है। उन्होंने कहा कि गांव के स्तर पर सुविधाएं देने से प्रतिभाओं को उचित प्रोत्साहन मिलेगा। उन्होंने कहा कि स्पोर्ट्स जोन के मिशन से गांवो में भी स्पोर्ट्स कल्चर को बढ़ावा मिलने का मुझे पूरा विश्वास है।

समारोह की अध्यक्षता करते हुए जिला फुटबॉल संघ के अध्यक्ष मेजर दिनेश सिंह (राष्ट्रपति पदक से सम्मानित) ने कहा कि बलिया में टैलेंट की कमी नहीं है बस इस बारे में जागरूकता की कमी है। यहां उचित वातावरण न मिलने से कई खिलाड़ी आगे नहीं बढ़ पाते है। उन्होंने विश्वास जताया कि हिंदी की पहली मासिक खेल पत्रिका स्पोर्ट्स जोन के चलते बलिया जिले में खेल व खिलाड़ियों को काफी बढ़ावा मिलेगा। इसी के साथ इस पत्रिका के माध्यम से नयी व बेहतरीन जानकारियां मिलने से खेलों के बारे में जागरूकता आएगी।

मिथिलेश श्रीवास्तव (सरंक्षक, जिला ओलंपिक एसोसिएशन) ने कहा कि हिंदी की पहली मासिक खेल पत्रिका स्पोर्ट्स जोन की शुरुआत से खेल व खिलाड़ियों को नवीनतम जानकारी मिलने से प्रदेश के खिलाड़ी लाभान्वित होंगे। उन्होंने आगे कहा कि खिलाड़ियों के लिए मूलभूत सुविधाओं का अभाव है और वो अपने संसाधनों से खेल रहे है जिससे उनकी नींव कमजोर हो गयी है।

धीरेंद्र शुक्ला

बलिया जिला ओलंपिक संघ के सचिव धीरेंद्र शुक्ला ने कहा कि हमारी पुरानी मांग है कि यहां वाटर स्पोर्ट्स का सेंटर बनाया जाये। अगर सरकार इस बारे में ध्यान दे तो यहां एशिया का सबसे बड़ा वाटर स्पोर्ट्स सेंटर बन सकता है। इस बारे में कई साल पहले आए एक रूसी विशेषज्ञ ने भी कहा था कि सुविधाओं का विकास हो तो यहां एशिया का सबसे बड़ा वाटर स्पोर्ट्स सेंटर बन सकता है।

यहां वाटर स्पोर्ट्स में मल्लाहों के बच्चे कमाल दिखा सकते है। उन्होंने कहा कि आइकोनिक ओलंपिक गेम्स अकादमी द्वारा स्पोर्ट्स जोन हिंदी मासिक खेल पत्रिका की शुरुआत के लिए पत्रिका के प्रधान संपादक डा.आनन्देश्वर पाण्डेय व संपादक सैयद रफत जी का बधाई। ये पत्रिका आने वाले समय में प्रदेश के खेल जगत के लिए एक बड़ा प्लेटफार्म बनेगी।

जिला कबड्डी संघ के सचिव पंकज सिंह ने कहा कि खेल जगत में हिंदी की मासिक खेल पत्रिका का अभाव था और इस पत्रिका से इस खालीपन को भरा जाएगा, ऐसा मेरा विश्वास है। उन्होंने कहा कि फतेहपुर में खेल सुविधाओं का सतत विकास हो रहा है।

उन्होंने स्पोर्ट्स जोन की लांचिंग के लिए शुभकामनाएं देते हुए कहा कि हिंदी भाषी प्रदेशों में हिंदी की हिंदी की मासिक खेल पत्रिका का अब तक अभाव था, मुझे पूरा विश्वास है कि ये पत्रिका इस खालीपन को भरेगी और खेल व खिलाड़ियों के प्रति सकारात्मक सोच का प्रसार करेगी। इस अवसर पर स्पोर्ट्स जोन के निदेशक सैयद रामिश ने आइकोनिक ओलंपिक गेम्स अकादमी द्वारा स्कूल में खेलों को प्रमोट करने की रूपरेखा प्रस्तुत की।

इस अवसर पर मौजूद अन्य अतिथिगण में सुरेंद्र नाथ शुक्ला (कार्यकारी अध्यक्ष, जिला वॉलीबाल संघ), खुर्शीद (रेफरी बोर्ड चेयरमैन, फुटबॉल व कबड्डी), विजय गुप्ता (अध्यक्ष जिला मुए थाई संघ), संजय तिवारी (उपाध्यक्ष, जिला कबड्डी संघ), संजय तिवारी (उपाध्यक्ष, जिला कबड्डी संघ), अजय तिवारी (उपाध्यक्ष, जिला एथलेटिक्स संघ), अरविंद शुक्ला (सचिव जिला वॉलीबाल संघ), अरविंद गुप्ता (सचिव जिला कुश्ती संघ), जमाल अख्तर (सचिव जिला मुए थाई संघ), अजीत सिंह (सचिव, मिनी फुटबॉल संघ), धनंजय सिंह (सचिव, जिला बॉस्केटबॉल संघ), रत्न बिहारी (सीनियर हैंडबॉल प्लेयर), राहुल रस्तोगी (स्थानीय पार्षद), सुशील उपाध्याय (मुए थाई कोच) व सोनी मलिक शुक्ला (अध्यापिका, उच्च प्राथमिक स्कूल, सोना डाबर) के साथ विशाल, अकील, अंकित सहित बड़ी संख्या में खेल प्रेमी मौजूद थे।

सिर्फ एक स्टेडियम जिसमें बारिश में भर जाता है पानी

भले ही बलिया जिले में खेल प्रतिभाओं की भरमार है लेकिन यहां सुविधाओं का अभाव काफी भारी पड़ता है। यहां खेल प्रैक्टिस के नाम पर सिर्फ एक वीर लोरिक स्टेडियम है लेकिन बारिश के मौसम में यहां पानी भर जाता है जिससे खिलाड़ियों का अभ्यास ठप्प हो जाता है।
यहां जिले में काफी समय से एक बहुउद्देश्यीय स्टेडियम बनाने की मांग है जिसमें एथलेटिक्स के साथ हॉकी का भी सिंथेटिक ट्रैक  हो लेकिन यह मांग अनसुनी रह गयी। यहां खेल विभाग के कोच के नाम पर हॉकी कोच अजय और बास्टकेटबॉल कोच अतुल सिन्हा ही तैनात है।

महिलाओं को खेलकूद में लाने के लिए अलख जगा रही सोनी मलिक शुक्ला

सोनी मलिक शुक्ला

जिले में सोना डाबर में उच्च प्राथमिक स्कूल में शिक्षक के पद पर तैनात सुश्री सोनी मलिक शुक्ला यहां महिलाओं को खेलकूद में लाने के लिए अलख जगा रही है। उन्होंने तमाम विरोधों के बावजूद परिवार के साथ के सहारे खेलों की दुनिया में एक मुकाम बनाया और एथलेटिक्स में 3000 मी. और 1500 मी. में राज्य का प्रतिनिधित्व किया।

उन्होंने दो बार यूपी टीम की ओर से नेशनल फुटबॉल टूर्नामेंट भी खेला है। यहीं नहीं उन्होंने महिला को खेलों में लाने के लिए जागरूरकता अभियान के तहत 1993 में बलिया से दिल्ली तक की पदयात्रा की थी। उस सफर में उनके दल में पांच लड़के व तीन लड़किया थी। उस समय उनका समाज के लोगों ने काफी विरोध किया लेकिन उन्होंने इसकी परवाह भी नहीं की।

About Aditya Srivastava

Check Also

बृजेश पाठक बने भारतीय वॉलीबाल महासंघ के एसोसिएट उपाध्यक्ष

लखनऊ। भारतीय वॉलीबाल महासंघ की हाल ही में वेबिनार के माध्यम से हुई बैठक में ...